भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो महल तामीर करते हैं कड़कती धूप में / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो महल तामीर करते हैं कड़कती धूप में ।
उनके दिन अक्सर गुज़रते हैं सड़क की धूप में ।

जल रही है आदमीयत यूँ मज़हबी धूप में,
जिस तरह जलती है धरती गर्मियों की धूप में ।

फूल ग़ज़लों के खिले थे जो अदब की छाँव में,
आज वो कुम्हला रहे हैं जिन्सियत की धूप में ।

ज़ुल्म और मज़लूम को रंगीन चश्मे से न देख,
बर्फ़ में भी है वही जो है सफ़ेदी धूप में ।

ये भरे सावन की आमद की अलामत है ’नदीम’,
ख़त्म होने के लिए बढ़ती है गर्मी धूप में ।