भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो रहा यूँ सलामत मिरा जज़्ब-ए-वालहाना / फ़ारूक़ बाँसपारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो रहा यूँ सलामत मिरा जज़्ब-ए-वालहाना
मुझे ख़ुद करेगा सज्दा तिरा संग-ए-अस्ताना

रह-ए-हक़ के हादसों का न सुना मुझे फ़साना
तिरी रहबरी ग़लत थी कि बहक गया ज़माना

मैं जहान-ए-होश-ओ-इरफ़ाँ ब-लिबास-ए-काफ़िराना
ब-हिजाब-ए-पारसाई तू हमा शराब-ख़ाना

तुझे याद है सितमगर कोई और भी फ़साना
वही ज़िक्र-ए-आब-ओ-दाना वही फ़िक्र-ए-ताएराना

मिरी ज़िंदगी का महवर यही सोज़ ओ साज़-ए-हस्ती
कभी जज़्बा-ए-वालिहाना कभी ज़ब्त-ए-आरिफ़ाना

तिरा जज़्बा-ए-रिफ़ाक़त मिरा साथ कैसे देगा
कि मैं ज़िंदा-ए-कोहिस्ताँ तू हलाक-ए-आशियाना

मिरी बज़्म-ए-फ़िक्र में है यही कशमकश अज़ल से
कभी छा गई हक़ीक़त तो कभी जम गया फ़साना

वो बजाए आह ‘फ़ारूक़’ अभी वाह कर रहे हैं
अभी दर्द से है ख़ाली ये नवा-ए-आशिक़ाना