भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो व्यक्त नहीं कर पाया हूँ / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो व्यक्त नहीं कर पाया हूँ
                    वह क्या मेरे मन में नहीं है ?
जो भी सोची जा सकती है
                    पीड़ा क्या नहीं तन ने सही है ?
वहाँ करुणा की धार उपजी
                    जो नहीं मुझ तक बही है ।
मैं ने तो अरे, पा कर लेने को
                    वह बाँह ही जा गही है ।