भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज्योतिर्मय को / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माटी का दीपक दे-
तुम तो निश्चिन्त हुए;
यों न करो!

घन-से झुक सरस, सदय-
भावों का मृदु मधुमय-
लहराता-
स्नेह भरो!

स्नेह-विभा हो पावन;
रूपान्तर का साधन-
प्राणों की
बात धरो!

तिल-तिल यह बात जले,
स्वर्णिम आलोक ढले;
मेरा-
अस्तित्व वरो!

चेतनता की विरहिन,
रोती है तारे गिन,
चुम्बन ले-
शोक हरो!

लो, कवि का मन खोल दिखाऊँ!

लो, कवि का मन खोल दिखाऊँ!
अन्तर्जग की रंग-बिरंगी निधियाँ लो अनमोल दिखाऊँ!