भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झरै है सुर... : दोय / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग मधुवंती नै सुणती बैळा

सागर खावै छोळा
एक लहर
दूजी...तीजी...चौथी...
अर
आगै सूं आगै लहर
सागर खावै छोळा
चोखी लागै
आवती अर
जावती लहर्या
हरैक लहर
भरै मांय रो खालीपण
मांय घिर्यौड़े अंधारै
रै सामीं
जगावै दिवळा
अर
करै है घणकरो उजास।