भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झुकी निगह में है ढब पुर्सिश-ए-निहानी का / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झुकी निगह में है ढब पुर्सिश-ए-निहानी का
हया में ज़ोर दिया रंग मेहर-बानी का

जिए हैं गर्म नफ़स सोज़ से कि बहर-ए-चराग़
करे है शोला ही काम आम-ए-ज़िन्दगानी का

तबस्सुम-ए-लब-ए-ग़ुंचा को देख रोता हूँ
कि ठीक रंग कि उस ख़ंदा-ए-निहानी का

कहाँ से ज़ोर-ए-दिल-ओ-सीना-ओ-जिगर लाऊँ
तुम्हें तो खेल लगा हाथ तेग़-रानी का

इलाही जैब कि दामन कि आस्तीं धोऊँ
मिज़ा ले सीख लिया शुग़्ल ख़ूँ-फ़िशानी का

नहीं बचा मरज़-ए-इश्क़ से कोई ‘ममनूँ’
हमें दरीग़ बहुत है तेरी जवानी का