भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झूठ-सच / राकेश पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच यह है की कुछ भी सच नहीं
झूठ यह है की कुछ भी सच नहीं
इस सच और झूठ में
एक सच यह है कि
कोई भी सच नही, कोई भी झूठ नहीं
हाँ पर एक सच यह जरूर है कि
हम सच
समझने
सुनने
और महसूस करने के
काबिल अभी तक नहीं हुए !
सच को समझना
उस अंतस को समझना है
जो है ही नहीं कहीं
न किसी कोने में
न किसी के पास
सिवाय झूठ-सच और ग़फ़लत के !