भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टन-टन-टनाटन / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुनिया री मुनिया!
ये सारी दुनिया
पैसे के पीछे भागे दनादन।
टन-टन-टनाटन! टन-टन-टनाटन!

जिसके खलीते में
पैसा न धेला,
फक्कड़-सा घूमे
वो बस अकेला,
छप्पर न सिर पर आँगन ही आँगन।
टन-टन-टनाटन! टन-टन-टनाटन!

जिस पर चढ़ी इस
पैसे की माया,
उसकी समझ में
कभी न आया,
प्यार है दुनिया में सबसे बड़ा धन।
टन-टन-टनाटन! टन-टन-टनाटन!