भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूटा तुझ से या किसी ने तोड़ डाला फर्क क्या / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूटा तुझ से या किसी ने तोड़ डाला, फर्क क्या
टूटना था दिल तेरा, क्या इस तरह, क्या उस तरह
जो बुलाते तुम न तो आतीं न क्या ये मुसीबतें
था यही हासिल, तेरा, क्या इस तरह, क्या उस तरह