भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठहरा है करीब-ए-जान आ कर / शाहिदा हसन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठहरा है करीब-ए-जान आ कर
जाने का नहीं ये ध्यान आ कर

आईना लिया तो तेरी सूरत
हँसने लगी दरमियान आ कर

टपके न ये अश्क चश्म-ए-ग़म से
जाए न ये मेहमान आ कर

पलटी जो हवा गए दिनों की
दोहरा गई दास्तान आ कर

क़दमों से लिपट गए हैं रस्ते
आता नहीं मकान आ कर

जा पहुँची ज़मीने उसे मिलने
मिलता न था आसमान आ कर