भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठहरो, गम आबाद करें--गजल / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ठहरो, गम आबाद करें--गजल


गूंगों की इस बस्ती में
आओ, खुद से बात करें

शीशे, शोले, शूल जहां
ठहरो, गम आबाद करें

फफकी, सिसकी, हिचकी का
हंसियों में अनुवाद करें

हकलों की जमघट हैं हम
चल, बैठक कुछ ख़ास करें