भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डग-डग डंगाडोली / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक हमारी टोली!
हाँ जी, एक हमारी टोली।

इस टोली में शामिल होना
है तो उमर घटाओ।
और हमारे ही जैसे
बिलकुल बच्चे बन जाओ।
सीधी-सच्ची बात करो
न कोई टालमटोली।
एक हमारी टोली!
हाँ जी, एक हमारी टोली।

इस टोली में शामिल होने
की कुछ फीस नहीं है।
आ जाए वह जिसके मन में
कोई रीस नहीं है।
खेल सके जो साथ हमारे
डग-डग डंगाडोली।

एक हमारी टोली!
हाँ जी, एक हमारी टोली।