भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डरता चाँद / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसमान पर ही रहता क्यों
नीचे नहीं उतरता चाँ?
माँ! बतलाओ क्यों मुझसे
हर रात ठिठोली करता चाँद?

दूर-दूर ही चमका करते
ये झिलमिल-झिलमिल तारे।
पास बुलाऊँ तो शरमा
जाते हें सारे के सारे।
उनसे भी बादल में छुपकर
आँखमिचौली करता चाँद।

मैंने कहा, एक दिन मेरे
आँगन में भी आ जाओ।
मीठी-मीठी खा जाओ।
पर लगता है मेरे जैसे
छुटकू से भी डरता चाँद।