भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डर / क्रांति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आइने के सामने
आइना रखो तो
बनते हैं अनंत प्रतिबिंब।

हम सब यह अच्छे से जानते हैं
तभी तो कभी ख़ुद को
ख़ुद के सामने नहीं रखते।