भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डाळा न्हाख्यां पछै / सतीश छींपा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोच री बाथां में
देखूं म्हैं
म्हारै देवता नैं
उणरै भोळापै नैं
अर आंख्यां मांय
बणती एक कहाणी नैं....।