भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डुप्लीकेट / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाजार में
भरी पड़ी हैं
डुप्लीकेट चीजें
जेवर
कपड़े
जूते से लेकर
आम जरूरत की
हर चीज
अमीर नाराज कि
छोटे-बड़े का अंतर मिटा रही हैं
ये चीजें ...
सड़कछाप भी उनके जैसे दीखते
कपड़े-जूतों में शान से निकलने लगे हैं
हजार के असली के बदले
सौ का नकली खरीद अकड़ने लगे हैं