भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढह गया वो घर जिसे पुख़्ता समझ बैठे थे हम / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढह गया वो घर जिसे पुख़्ता समझ बैठे थे हम ।
किस यक़ीं पर आपको अपना समझ बैठे थे हम ।

दूसरी दुनिया कहीं पर है कभी सोचा न था,
आपकी दुनिया को ही दुनिया समझ बैठे थे हम ।

साथ जो चलता रहा वो दूसरा ही जिस्म था,
भूल से अपना जिसे साया समझ बैठे थे हम ।

हमज़बाँ, हमराज़, हमदम, हमसफ़र और हमनशीं,
क्या बताएँ आपको क्या-क्या समझ बैठे थे हम ।

आपकी फ़ितरत के चेहरे थे कई समझे नहीं,
जो था शाने पर उसे चेहरा समझ बैठे थे हम ।

आप ख़ुद जैसे थे वैसा ही हमें समझा किए,
ख़ुद थे जैसे आपको वैसा समझ बैठे थे हम ।

सोचते हैं अब कि कैसे बेख़ुदी में आपको,
अपनी तन्हा उम्र का रस्ता समझ बैठे थे हम ।