भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढूँढ़ते फिरते हो अब टूटे हुए दिल में पनाह / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढूँढ़ते फिरते हो अब टूटे हुए दिल में पनाह।

दर्द से ख़ाली दिले-गबरू-मुसलमाँ देखकर॥


सब्र करना सख़्त मुश्किल है तड़पना सहल है।

अपने बस का काम कर लेता हूँ आसाँ देखकर॥


ऐसी पिला कि साकि़या! फ़िक्र न हो निजात की।

नशा कहीं उतर न जाय रोज़े-शुमार देखाकर॥


आबला-पा निकल गये काँटों को रौंदते हुए।

सूझा फिर आँख से न कुछ मंज़िले-यार देखकर॥