भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तटस्थ / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम समुद्र की तरह पुकारना
मैं पेड़ की तरह सुनूँगा
मगर अपनी जगह से
एक इँच भी नहीं हिलूँगा

पूरा ढीठ हूँ मैं
ऐसा वैसा नहीं
तुजुर्बेदार
जैसे तुमने साधा है ज्वार
वैसे ही
मैंने भी आलस
जान गया हूँ
कि यह बीमारी नहीं
समझदारी है

तुम बाहर-बाहर हहाना
भीतर-भीतर समाना
जड़ों की जीभ तक
नमक-पानी पहुँचाना

मगर मैं तुम्हारे लिए
सिर्फ सूखे पत्ते गिराऊँगा
और दुनिया को बताऊँगा
कि तुझे क्या परवाह
मेरे रोके ही रुकती है
तूफान की राह

और जब सचमुच तूफान आएगा
मैं हिलूँगा
और उखड़ जाऊँगा
फिर पता नहीं
कहाँ जाकर गिरूँगा
तुम पुकारते रहोगे
समुद्र की तरह
मगर मैं
पेड़ की तरह नहीं सुनूँगा

और लीजिए, अब इसी कविता का अँग्रेज़ी में अनुवाद पढ़िए
        Vinay Kumar
           Neutral

You call me like a sea
I shall hear like a tree
But from my place
Won't move even an inch

I am an absolute stubborn
Not like a Tom, Dick and Harry
Fully experienced,
Just as you have taken to tide
I have hold indolence
And have come to know
That this is not an ill
Rather, for today’s time, it’s a pill

You make noise from outside
And get deep into me
Bringing salt and water
To the tongues of the roots

But I will drop for you Only dry leaves
And shall tell the whole world
About you need not care
That for stopping hurricane
Here I am who dare

And when a hurricane comes such a big
Who moves me
I would be rooted out
Then, I don’t know
Where will I go to fall down
You would be calling me like a sea
No one would be there to hear like me

Translated into English by Hemant Das ‘Him'