भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तमाम आलम से मोड़ कर मुँह में अपने अंदर समा गया हूँ / हनीफ़ कैफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तमाम आलम से मोड़ कर मुँह में अपने अंदर समा गया हूँ
मुझे न आवाज़ दे ज़माना में अपनी आवाज़ सुन रहा हूँ

तज़ाद-ए-हस्ती का फ़ल्सफ़ा हूँ उरूज ओ पस्ती का आइना हूँ
उठा हुआ इक गुरूर-ए-सर हूँ मिटा हुआ एक नक़्श-ए-पा हूँ

हो क्या तअय्युन मिरी हदों का शुमार किया मेरी वुसअतों का
हज़ारों आलम बसे हैं मुझ में मैं बेहद-ओ-बे-कराँ ख़ला हूँ

अज़ाब-ए-अहसास-ओ-आगही के वो दिल-शिकन ख़्वाब-पाश लम्हे
हज़ार आईने टूटते हैं मैं जब भी आईना देखता हूँ

मैं ना-शुनीदा सदा-ए-सहरा बनूँगा आवाज़-ए-वक़्त ‘कैफ़ी’
ज़बान-ए-आलम पे आऊँगा कल मैं आज इक हर्फ़-ए-नारसा हूँ