भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तमाशा / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी गुरबत का तमाशा बना,
मैं खुद को
तलाशता हूँ।
मेरी खुशियों का अलाव बना,
मैं खुद को तलाशता हूँ।
मेरी उड़ानों के पर काट कर
मैं खुद को तलाशता हूँ
मेरी आँखों को नम कर
मैं खुद को तलाशता हूँ
क्यूँ तलाशता हूँ
नहीं खबर मुझे
पर मैं खुद को तलाशता हूँ।