भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तस्वीर बन गई / आरती मिश्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने कुछ कहना चाहा
बरबस तुम्हारा नाम आया

मैं सुनना चाहती थी कोई गीत
बोल तुम्हारे कानों में खनखनाने लगे

रात दो बजे मैं जाग रही हूँ
कविता लिखने की कोशिश करती

मेरी क़लम चलती रही
तुम्हारी तस्वीर बन गई