भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तालाब / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठण्डे किए जाते हैं ताजिए
विसर्जित की जाती है मूर्तियाँ
इसी तालाब में
इसी तालाब से शुरू होकर
इसी पर विराम पाता है
त्यौहार का उल्लास

इसी तालाब में
कपड़ों के साथ
धोती-पछाडती है औरतें
घर-गृहस्थी की परेशानियाँ
इसी तालाब में
हँस कर नहाती हैं
बच्चों की मस्तियाँ
जवानों की बेफ़िक्री
बुज़ुर्गों की जिजीविषा

गले तक डूबे रहते ढोर-डंगर
बगुले बुझाते प्यास
मछलियाँ लेती साँस

इसी तालाब में
इसी तालाब की मिट्टी
विवाह में बनती मांगर-माटी
वहीँ मरने के बाद
सिराए जाते
अस्थि और फूल

इसी तालाब में ढलकते हैं
गाँव के आँसू
इसी तालाब के सहारे
कटते हैं
गाँव के बचे-खुचे दिन