भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तालिब ए दीद हूँ चेहरा तो दिखा, देखूँ मैं / रविंदर कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तालिब ए दीद हूँ चेहरा तो दिखा, देखूँ मैं
दरमियाँ परदा है क्या, परदा उठा देखूँ मैं

मेरी रूदाद पे उस शोख़ की आँखें पुरनम
कैस ओ फ़रहाद का अफ़साना सुना देखूँ मैं

आ कभी तू मिरे आँगन में दुल्हन बनकर आ
तेरे हाथों पे लगा रंग ए हिना देखूँ मैं

कोई आहट तो हो टूटे मिरे ज़िन्दां का सकूत
चुप रहूँ, पाँव की ज़न्जीर हिला देखूँ मैं

अपनी क़िस्मत के सितारे को कि बे नूर-सा है
तोड़ कर अर्श से धरती पे गिरा देखूँ मैं

आज गुलशन की हर इक शाख़ है फूलों से लदी
दिल ए पज़मुर्दा को भी हँसता हुआ देखूँ मैं

बे सतूँ पर कि किसी नज्द में क्या जाने रवि
मुझे मिल जाए कहाँ मेरा पता देखूँ मैं