भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तितली / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इधर उड़ी, उधर उड़ी,
फैलाकर पर उड़ी।
तितली है नाम मेरा
फर-फर-फर-फर उड़ी।
कितने हैं रूप मेरे
कितने हैं रंग मेरे।
अगर जानना है तो उड़ो संग-संग मेरे।