भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तीनि-पाँच बइमानी कइकै / भारतेन्दु मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीनि-पाँच बइमानी कइकै
भे बड़कउनू भैया
लोटिया जिनकी बूड़ि रहै
अब पइरै उनकी नैया।

बी.डी.ओ., परधान, प्रमुख जी
का तक ई समुझावैं
खुसुर-पुसुर तय करैं कमीसन
क्लरकन का पलझावैं

लासा रोज लगावैं फाँसैं
नित-नित नयी चिरैया।

बातन मा देखाति हैं
जैसन सरवन के अवतार
मन से जेबै कतरै खातिर
हरदम बैठ तयार

ऊपर ते ममाखि का छत्ता
भीतर भरे बरैया।