भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तीन दिना दोइ रात बरन नोनो मूँदियो / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीन दिना दोइ रात बरन नोनो मूँदियो।
मूँदो मूँदो जिठनिया की जीभ बरन ऐसो मूँदियो।
मकरी माछी मूँदियो मूँदों पगरेतन की जीभ।
बिच्छू किच्छू मूँदियो मूँदों जेठे बड़न की जीभ।
आँधी बैहर मूँदियों मूँदों कुटुम भरे की जीभ।
तीन दिना दोई रात असुभ नोनो मूँदियो।