भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारा बसंत! / मंजूषा मन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम बसंत से खिले हो
खिलकर छा गए हो आकाश पर
झर कर बिछ गए हो धरती पर
खिल कर बिखर गए हो हवा में
महक बन कर
मैं अपने भीतर का पतझर
छुपाने की कोशिश में
मौन पहन लेती हूँ

मैं कभी कुछ सूखे पत्ते
उड़ा देती हूं तुम्हारी ओर
तुम उन्हें में मिला देते हो
पलाश के फूलों में
ये बसंती रंग में रंग जाते हैं

तुम झोलियां भर भर
लुटा रहे हो बसन्त
मैं अब भी छोड़ नहीं पा रही
अपना पतझर

मैं तुम से घबराकर
आँख बंद कर लेती हूँ

फिर अगले ही पल
हाथ बढ़ाकर चुपके से
एक मुट्ठी बसंत उठा लेती हूँ

मुझे भी लुभाता है
तुम्हारा बसंत!!!