भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारी आँख का आँसू चुरा लिया मैंने / मधुरिमा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी आँख का आँसू चुरा लिया मैंने ।
तुम्हारा राज़ तुम्हीं से छिपा लिया मैंने ।

तमाम उम्र जो अपनी तलाश में भटका,
उसी से उसके शहर का पता लिया मैंने ।

कहूँगी आज भी क्या उससे अलविदा के सिवा,
न जाने फिर भी उसे क्यूँ बुला लिया मैंने ।

जो मेरी याद में भीगी नहीं नज़र उसकी,
किसी की आँख का आँसू बचा लिया मैंने ।

पुकार लूँ न कहीं बेख़ुदी के आलम में,
जहाँ के डर से ज़ुबां को कटा लिया मैंने ।

मेरा ही आइना पहचानता नहीं मुझको,
ये किसके चेहरे-सा चेहरा लगा लिया मैंने ।

गुलाम दिल के रहे दिल की बात ही मानी,
न रोशनी न धुआँ क्या जला लिया मैंने ।