भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे इश्क़ पे दिल को जो मान था न रहा / हुमेरा 'राहत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे इश्क़ पे दिल को जो मान था न रहा
सितारा एक सर-ए-आसमान था न रहा

वो और थे कि जो ना-ख़ुश थे दो जहाँ ले कर
हमारे पास तो बस इक जहान था न रहा

तू अपनी फ़त्ह का ऐलान कर मैं हार गई
वो हौसला कि मुझे जिस पे मान था न रहा

वही कहानी है किरदार भी वहीं हैं मगर

जो एक नाम सर-ए-दास्तान था न रहा

सदाएँ दोगे पलट कर कभी तो देखोगे
हमारे दिल में ये मुबहम गुमान था न रहा