भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे लिए / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काश... कि
मै बनाऊँ आकर
चाय तुम्हारे लिए
कम चीनी की और कहूँ
अच्छे बच्चे देर तक नही सोते
 
बेल सकूँ बिलकुल गोल रोटी
पृथ्वी की तरह
सिर्फ तुम्हारे लिए
 
पोंछ सकूँ आइने का चेहरा
जिसमे जब तुम देखते हो तो
मै झाँकती हूँ चुपके से
और फेंक सकूँ सूखे फूल
गुलदान से तुम्हारी मेज़ के
 
लगा सकूँ उसमे
रोज़ एक ताज़ा
पीला गुलाब...
काश... कभी ।