भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हें देखने के लिए / श्रीकान्त जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने तुम्हें देखने के लिए
पुस्तकें हाथ में लीं और रखीं
मैंने तुम्हें देखने के लिए
अनेक अधबनी कविताएँ चखीं।

मैंने तुम्हें देखने के लिए
खिड़कियों के अधपट ढुलकाए
मित्रों को अनसुना किया
वायदों में झूठ बिखराए!

तुमने यह कुछ न किया
केवल अँगुलियों में लिपटते हुए
आँचल के कोने
कुतर खाए!!