भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम गै़र से मिलो न मिलो मैं तो छोड़ दूँ / मीर 'तस्कीन' देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम गै़र से मिलो न मिलो मैं तो छोड़ दूँ
गर इस वफ़ा पे कोई कहे बे-वफ़ा मुझे

सच है तू बद-गुमाँ है समझता है कुछ का कुछ
बोसा न लेना था मेरे आईने का मुझे

इंसाफ़ कर ख़राब न फिरता मैं दर-ब-दर
मिलती जो तेरे गोश-ए-ख़ातिर में जा मुझे

उस बुत की मैं दिखाऊँगा तस्वीर वाइज़ो
फिर क्या कहेगा दावर-ए-रोज़-जज़ा मुझे

क्यूँ उन से वक़्त-ए-क़त्ल किया शिकवा ग़ैर का
करनी थी मग़फ़िरत ही की अपनी दुआ मुझे

पूछे जो तुझ से कोई के ‘तस्कीं’ से क्यूँ मिला
कह दीजो हाल देख के रहम आ गया मुझे