भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम ही बताओ क्या वो कोई हादसा न था / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम ही बताओ क्या वो कोई हादसा न था
मुद्दत से मेरे शहर में कोई हँसा न था

नारे वही, जुलूस वही ,रैलियाँ वही
उस शहरे इन्कलाब में कुछ भी नया न था

गुम्बद में एक ज़ख़्मी अँधेरे की चीख़ था
पर मौन की स्लेट पर कुछ भी गिरा न था

कालोनियाँ नगर की उसे मिल के खा गईं
वो खेत जो किसी का बुरा सोचता न था

ख़ामोशियों के पाँव की हलकी-सी चाप थी
तू जिससे डर गया वो कोई ज़लज़ला न था