भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदत नहीं थी
संग तुम्हारे रहने की
धीरे–धीरे
घर तुम्हारा हो गया

फैलाव
जब मुझ में
सिमटने को होता है
छूट जाता है तभी
जिसको मैंने
सहेजा था, सँवारा था

मेरी जकड़ को
खींचने लगते हो तुम
क्यों ?
कहाँ से आ जाते हो ?

नाता
गहरा जाता है
नहीं फिर कुछ सूझता
सार तुम्हीं बन जाते हो ।