भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेग़े-हिन्दी / महाराज बहादुर `बर्क़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


     तेग़े-हिन्दी[1]

साफ़ करती सफ़े-दुश्मन [2]तू जिधर चलती है
हाथ बाँधे तेरे साये में ज़फ़र [3]चलती है
               * *
तुझ में वोह आब है शेरों का जिगर पानी है
दुश्मनों के लिए जुम्बिश तेरी तूफ़ानी है
तू वो है बहरे-रवाँ [4]जिससे रवानी [5]माँगे
तेरा मारा हुआ मैदाँ[6]में न पानी माँगे

               * *
दिल लरज़ते हैं ज़रा तू जो लचक जाती है
चश्मे-ग़द्दार [7]में बिजली-सी चमक जाती है
अपने मरक़ज़ [8]से ज़मीं [9]रन [10]की सरक जाती है
मौत भी सामने आए तो झिझक जाती है
              * *
जब कभी रन में चमकती हुई तू निकली है
ख़ौफ़[11]से हो के फ़ना[12]जाने-उदू [13]निकली है
             * *
लोहा माने हुए बैठा है ज़माना तेरा
कि लबे-ज़ख़्म[14] पर अब तक है फ़साना तेरा

शब्दार्थ
  1. भारतीय तलवार
  2. शत्रु का व्यूह
  3. विजय-श्री
  4. प्रवाहित समुद्र
  5. प्रवाह
  6. मैदान
  7. देशद्रोही के नेत्रों में
  8. केन्द्र
  9. भूमि
  10. रण
  11. भय
  12. बरबाद
  13. शत्रु के प्राण
  14. घाव के होंठ