भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरे अलम को ज़बीं से लगा लिया मैं ने / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरे अलम को ज़बीं से लगा लिया मैं ने
लगा के जेसे ख़ज़ाने को पा लिया मैं ने

दरीचा दिल का मेरे वा हुआ उसी लम्हा
तुम्हारे नाम को दिल में बसा लिया मैं ने

जो आज सुब्ह तिलावत की सूरअ-ए-यासीं
नसीब से दिल-क़ुआन पा लिया मैं ने

हुई उदास तो ताहा का विर्द करने लगी
सुरूर इश्क़ का दिल में जगा लिया मैं ने

तमाम रात पढ़ी सूरअ-ए-मुज़म्मिल जब
सहर के नूर से दिल को सजा लिया मैं ने