भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरे होटाँ के हुके़ में थे दिला मुंज कूँ दवा / क़ुली 'क़ुतुब' शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरे होटाँ के हुके़ में थे दिला मुंज कूँ दवा
मेरे दर्मां कूँ सदा तेरी शिफ़ा थे है शिफ़ा

नयन झलकार तेरी बिजली नमन जब झमकेगी
दिश्ट थे मंुज शौक़ का मेंह पड़ के हुआ सब ही हवा

क्या ग़रज़ तुज कूँ ये बहसाँ सूँ पिला मय साक़ी
ग़म पछीं ऐश ख़ुशी का है सफ़ा हौर सफ़ा

वाज़ तेरे सूँ मआनी बँधिया है दिल या रब
करो आमीन नबी ओ अली थे उस की दुआ