भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तोरन निच्चऽवरमाय ऊभी ओ, वरमाय ऊभी ओ / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

तोरन निच्चऽवरमाय ऊभी ओ, वरमाय ऊभी ओ
बाट जोवय ओका बापऽ की
बाप- बिना ओकी माण्डी जे सूनी ओ, माण्डी जे सूनी ओ
माय बिना ओको रान्धना
बहिन-बिना ओको अंगना सूनो ओ, अंगना सूनो ओ
भाई बिना ओको हँसना
सखि बिना ओका खेल हनअ् सूना ओ, खेलहन् सूना ओ
साजन बिना ओको जीवना।।