भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थाकी गति आँगन की मति परि गई मँद / हरिश्चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थाकी गति आँगन की मति परि गई मँद ,
सूखि झाँझरी सी ह्वै कै देह लागी पियरान ।
बाबरी सी बुद्धि भई हँसी काहू छीन लई ,
सुख के समाज जित तित लागे दूर जान ।
हरीचँद रावरे बिरह जग दुख भयो ,
भयो कछु और होनहार लागे दिखरान ।
नैन कुम्हिलान लागे बैन हू अथान लागे ,
आओ प्रान नाथ अब प्रान लागे मुरझान ।

हरिश्चन्द्र का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।