भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थेड़ री कूंख सूं / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धपटवां हुई फसल
उबरिया हा
कीं पईसा
धर गुल्लक में
बूर ही दिया हा
धरती में
इणी सूं
करना हा
हाथ पीळा
बीं साल
बाई रा
बै ई तो निकळया है
काळीबंगा री खुदाई में
थेड़ री कूख सूं
बाई कद परणाई!