भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थेड़ रै तळै / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊंचै
डूंगर मान
थेड़ रै तळै
निकळी ही हांडकी
उण रै तळै
बच्योड़ो हो
ऊगण नै हांफतो बीज
सी’ल अंगेज्यां डील
कीं ई दिनां में
काढ लिया पानका
देख’र साम्ही
अखूट आभै में
कद्रदान अन्न रा।