भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थोड़ा-सा वक़्त के जो तक़ाज़े बदल गए / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थोड़ा-सा वक़्त के जो तक़ाज़े बदल गए ।
उनके तमाम नेक इरादे बदल गए ।

हम अपनी कैफ़ियत से सुबकदोश क्या हुए,
गुस्ताख़ आरज़ूओं के लहजे बदल गए ।

बनना था जिनको हाल के हालात का बदल’
मैं उनसे पूछता हूँ वो कैसे बदल गए ।

अब भी मक़ाम-ओ-मर्तबा अपनी जगह पे हैं,
लेकिन वहाँ पहुँचने के रस्ते बदल गए ।

जारी है अब भी मुर्दा रिवायात का सफ़र,
मय्यत थी जिन पे सिर्फ़ वो काँधे बदल गए ।

ज़ाहिर करें जो बात वो ज़ाहिर न हो ’नदीम’,
इज़हार के वो तौर-तरीक़े बदल गए ।