भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दया / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाके जीय दया बसी, ता घर बसो दयाल।
धरनी जहाँ दया नहीं, तहाँ बसेरो काल॥1॥

दाया दुर्लभ जगत में, पावै विरला कोय।
दया दयालु बिना कहीं, धरनी दया न होय॥2॥

यज्ञ, योग, तप, तीर्थ व्रत, सुमिरत आठो याम।
धरनी बिनु हृदया दया, कछु नहि आवै काम॥3॥

धरनी सो नर धन्य है, पर पीडा जिय व्याय।
ताके दर्शन देखते, भस्म होत जग पाप॥4॥

काया-माया जेहि बढी, दया बढ़ी न जाहि।
निष्फल ताको जीवनो, धरनी गनै न ताहि॥5॥