भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दरवाजे बंद हुए / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर जो खुलते थे दरवाजे
बंद हुए
 
रिश्तों ने
मिल-जुलकर
तोड़ दिये घर सारे
पुरखों की चौखट पर
बैठे हैं बँटवारे
 
मीठे जो
बजते थे पहुनाई के बाजे
बंद हुए
 
खोल लिये लोगों ने
पिछवाड़े के रस्ते
नकली दीवारों से
घेर लिये चौरस्ते
 
झोंके
फगुनाहट के आते थे जो ताज़े
बंद हुए