भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द ज़िगर में पाले रखना / अनीता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द ज़िगर में पाले रखना
लेकिन मुँह पर ताले रखना।

अम्मा तो न सह पायेगी
बँटवारे को टाले रखना।

घुन लग गये शहतीरों में
छत को जरा संभाले रखना

जिनके घर चूल्हे सोते हैं
उनके कण्ठ निवाले रखना

जहाँ रात ज़िद पर बैठी हो
थोड़े -बहुत उजाले रखना

बन जाये न ज़ख्म कहीं
हाथों में मत छाले रखना।।