भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द मेरा है रूठा-रूठा / अनुपम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द मेरा है रूठा-रूठा
दिल मेरा है टूटा-टूटा

नसीब की मैं बात जानूं
नसीब मेरा है फूटा-फूटा

कर्म सहारे जीवन बिता
कर्म को मैंने कूटा-कूटा

हरियाली के दिन हैं बीते
रोते अब पत्ते बूटा-बूटा

दिल का बाग़ है सूना-सूना
दिल का खज़ाना लुटा-लुटा

सपनों की दुनिया ख़ाली-ख़ाली
उम्मीद का दामन छूटा-छूटा

दिल में तुम्हारे कौन रहेगा
देखो ये कैसा है टूटा-फूटा

बहुत छुपाया तुमने ‘अनुपम’
दिल का ग़ुबार है फूटा-फूटा