भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दश्त ले जाए कि घर ले जाए / सरवत हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दश्त ले जाए कि घर ले जाए
तेरी आवाज़ जिधर ले जाए

अब यही सोच रही हैं आँखें
कोई ता-हद्द-ए-नज़र ले जाए

मंज़िलें बुझ गईं चेहरों की तरह
अब जिधर राहगुज़र ले जाए

तेरी आशुफ़्ता-मिज़ाजी ऐ दिल
क्या ख़बर कौन नगर ले जाए

साया-ए-अब्र से पूछो ‘सरवत’
अपने हमराह अगर ले जाए