भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दाग़िस्तानी ख़ातून और शाइर बेटा / रसूल हम्ज़ातव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने जब बोलना न सीखा था
उसकी हर बात मैं समझती थी
अब वो शाइर बना है माने-ख़ुदा
लेकिन अफ़सोस कोई बात उसकी
मेरे पल्ले ज़रा नहीं पड़ती