भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दाग़ पहरींदड़ जा सुकन्दे सड़न्दे सारींदा रहिया / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दाग़ पहरींदड़ जा सुकन्दे सड़न्दे सारींदा रहिया।
ताज़ा धोतल कपड़ा उस में लुड़िक हारींदा रहिया॥

साॻे अघ में चिमिकन्दड़ पत्थर ई बस खॼन्दा ॾिसी।
हीरा हैरत सां ग्राहक खे निहारींदा रहिया॥

तिनि ई दावा थे कई विच-सीर जे कुल ॼाण जी।
काग़ज़ी किश्तियूं जे साहिल ते उतारींदा रहिया॥

ज़ख़म ते लूणाटियल घूरनि जे मरहम खे थफे।
दोस्त अमदर्दीअ जी विहु, मुरिकी पियारींदा रहिया॥

पाण खे गिरवी रखण ते मां त राज़ी भी हुउसि।
पर हू मूं खे पाणु विकिणण ते धुतारींदा रहिया॥

मइ न ही, साकी न हो, कुछु भी न हो, पर खु़श ख़यशाल।
दिल जी महफ़िल में उम्मीदुनि खे विहारीन्दा रहिया॥

छांव जो अहसासु उस में, खु़द फ़रेबीअ जो हुनरु।
से भी आक़िल ह, जे ख़्वाबनि में गुज़ारींदा रहिया॥

शहर हो बस, भॼु-भॼां ऐं तेज़ कारुनि मां कमल,
हादसा रस्तो प्यादनि जो निहारींदा रहिया॥